Whats new

आर्थिक वृद्धि दर तिमाही में घटकर 7 फीसदी

India-GDP  

कृषि, सेवा और विनिर्माण क्षेत्रों की वृद्धि दर में नरमी के चलते सकल घरेलू उत्पाद की वद्धि दर चालू वित्त वर्ष की अप्रैल-जून तिमाही में 7.0 प्रतिशत रही जो इससे पूर्व की तिमाही में 7.5 प्रतिशत थी. जीडीपी में धीमी वृद्धि दर में धीमेपन और औद्योगिकी उत्पादन में नरमी को देखते हुए रिजर्व बैंक द्वारा नीतिगत दर में कटौती की संभावना बढ़ी है. आर्थिक गतिविधियों को मापने के लिये सीएसओ द्वारा अपनाए जा रहे सकल मूल्य वर्द्धन (जीवीए) पर आधारित नये मानदंड के आधार पर भी पहली तिमाही में जीवीए घटकर 7.1 प्रतिशत पर आ गई जो एक वर्ष पूर्व इसी तिमाही में 7.4 फीसदी था. केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय (सीएसओ) के आंकड़ों के अनुसार जनवरी-मार्च 2015 में जीडीपी वृद्धि दर 7.5 प्रतिशत जबकि अप्रैल-जून, 2014 में यह 6.7 प्रतिशत थी. मुद्रास्फीति में तीव्र गिरावट के चलते चालू बाजार बाजार मूल्य पर नामिनल जीडीपी (सांकेतिक जीडीपी) और जीवीए में तिमाही के दौरान तीव्र गिरावट दर्ज की गई है. जहां सांकेतिक जीडीपी पहली तिमाही में 8.8 फीसदी रही जो एक वर्ष पूर्व इसी तिमाही में 13.4 प्रतिशत थी. इसी तरह जीवीए वृद्धि दर इस बार करीब 7.1 प्रतिशत रही जो एक वर्ष पूर्व इसी तिमाही में 14 प्रतिशत थी. सरकार ने चालू वित्त वर्ष 2015-16 की शुरूआत में वृद्धि दर 8.1 से 8.5 प्रतिशत रहने का अनुमान जताया है जिसे हासिल करना कठिन हो सकता है.