Whats new
Shopping Cart: Rs 0.00

You have no items in your shopping cart.

Subtotal: Rs 0.00

Welcome to

Allauddin

युद्ध के 5 सालः सीरिया में शांति का प्रस्ताव UN में मंजूर

 UNO-SIRIYA

सीरिया में करीब पांच साल से जारी युद्ध के बीच पहली बार विश्व शक्तियों को आखिरकार इंसानियत की याद आ ही गईI संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में (भारतीय समयानुसार) को आम सहमति से शांति बहाली का प्रस्ताव पारित किया गयाI. हालांकि यह साफ कर दिया गया है कि आईएसआईएस पर जारी हवाई हमले भी नहीं रुकेंगेI उसका खात्मा तो करना ही हैI

यह प्रस्ताव पारित करने के बाद अब जनवरी से ही सीरियाई सरकार और विद्रोही गुटों के बीच शांति बहाली के लिए संघर्ष विराम की बातचीत शुरू होगीI लेकिन इससे पहले दोनों गुटों को इस बातचीत के लिए राजी करना भी एक चुनौती हैI इस सबके बीच, असद सरकार और यूएन को इसका ध्यान रखना होगा कि आईएसआईएस अपनी जड़ें मजबूत न कर सकेI इसीलिए अमेरिका, रूस और फ्रांस के हवाई हमले जारी रखने पर सहमति बनी हैI

अब और खून-खराबा न होः मून
न्यूयॉर्क के यूएन मुख्यालय में हुई इस अहम बैठक में स्पेन, ब्रिटेन, अमेरिका, रशियन फेडरेशन सहित 15 काउंसिल मेंबर शामिल हुएI बैठक में संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की मून भी मौजूद थेI बैठक में इस प्रस्ताव के विरोध में एक भी वोट नहीं पड़ाI बैठक युद्धग्रस्त सीरिया में खून-खराबा और पलायन रोकने के लिए हुई थीI सुरक्षा परिषद ने माना कि अब यहां इंसानियत का कत्ल नहीं होना चाहिएI यह खून खराबा रुकना चाहिएI

इस सबके बीच, अमेरिका राष्ट्रपति बराक ओबामा ने सीरिया के राष्ट्रपति बशर अल असद से इस्तीफा देने की अपील की हैI उन्होंने कहा कि मेरा और विशेषज्ञों का यह मानना है कि जब तक असद अपने पद पर बने हुए हैं, वहां स्थायित्व कायम नहीं किया जा सकताI इसके लिए जरूरी है कि वहां ऐसी सरकार बने जो उन इलाकों में भी सुशासन ला सके, जहां अभी अशांति हैI यह काम असद के पद छोड़े बिना मुमकिन नहीं हैI

अमेरिकी विदेश मंत्री जॉन केरी ने कहा कि यह प्रस्ताव सभी संबंधित पक्षों को एक संदेश हैI यह सीरिया में हो रही मौतों को रोकने का सही वक्त हैI सरकार को अब जमीन पर अपना काम करना चाहिए, इसके लिए भी यह सही वक्त हैI' अमेरिकी मीडिया की रिपोर्ट्स में संयुक्त राष्ट्र के इस फैसले को दुर्लभ बताया जा रहा हैI

सीरिया में जारी युद्ध में अब तक ढाई लाख से ज्यादा लोग मारे जा चुके हैंI संयुक्त राष्ट्र के मुताबिक छह करोड़ लोगों को अपना घर छोड़ना पड़ाI एक तरफ सीरिया सरकार और विद्रोही गुट आपस में लड़ रहे हैं तो दूसरी तरफ आईएसआईएस सीरिया के काफी बड़े हिस्से पर कब्जा करने के लिए तबाही मचा रहा हैI

Next >>