Whats new

सरकार ने 106 दवाएं आवश्यक दवाओं सूची में शामिल कीं

 medicine

सरकार ने आवश्यक दवाओं की सूची में 106 और औषधियां शामिल की हैं। इनमें कैंसर, एच.आई.वी.-एड्स, हैपेटाईटिस-सी और अन्य बीमारियों की दवायें शामिल हैं।. अब आवश्यक औषधियों की कुल संख्या 376 हो गई है। इस पहल से देशभर में किफायती दाम पर ये दवाएं मिल सकेंगी। स्वास्थ्य मंत्रालय की कोर समिति ने आवश्यक दवाओं की राष्ट्रीय सूची से 70 दवाईयों को हटा दिया है। समिति ने नयी सूची तत्काल लागू किये जाने और इसे हर तीन साल में संशोधित करने की सिफारिश की है।

आवश्यक दवाओं क्या हैं?
आवश्यक दवाओं देश की आबादी का प्राथमिकता स्वास्थ्य देखभाल की जरूरत को संतुष्ट है कि उन लोगों के हैं। वे अर्थात् प्राथमिक, माध्यमिक और तृतीयक स्वास्थ्य के स्तर के संदर्भ में सूचीबद्ध हैं। वे आम तौर आदि देश के रोग बोझ, प्राथमिकता स्वास्थ्य संबंधी चिंताओं, सामर्थ्य चिंताओं के आधार पर कर रहे हैं। (2011 में स्थापित) भारत NLEM में आवश्यक दवाओं का फैसला किया। यह एक गतिशील सूची है और शामिल हैं या के रूप में नवीनतम चिकित्सा नवाचारों के लिए प्रासंगिक है और वर्तमान में बाजार में प्रतिस्पर्धा करने के लिए गठबंधन दवाओं को बाहर करने का हर 3 साल समीक्षा की जाती है। यह रसायन और उर्वरक मंत्रालय के तहत राष्ट्रीय औषधि मूल्य निर्धारण प्राधिकरण (एनपीपीए) औषधि (मूल्य नियंत्रण) आदेश 2013 के तहत छत की कीमतें आवश्यक दवाओं का फैसला करता है कि ध्यान दिया जाना चाहिए।

Next >>