Whats new

एनएफएचएस सर्वे का निष्कर्ष, भारत में बढ़ रहा महिला सशक्तीकरण, 40% महिलाएं संपत्ति की मालकिन

ladies

देश में महिला सशक्तीकरण से जुड़े एक राष्ट्रीय सर्वे में महिलाओं की स्थिति में सुधार होते देखा गया है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने सर्वे में पाया है कि देश के 15 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में 40 फीसदी से अधिक महिलाओं के पास संपत्ति है या संपत्ति में उनका हिस्सा है।. यह आंकड़ा पूर्ववर्ती सरकारों के मुकाबले बढ़ा है।

स्वास्थ्य मंत्रालय के नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे एनएफएचएस-4 के तहत वर्ष 2015-16 के लिए 15 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में सर्वेक्षण का फस्र्ट फेज पूरा हो गया है। इसमें महिला सशक्तीकरण के बेहतर संकेत देखे गए। उक्त राज्यों में करीब आधे परिवारों में घर का जिम्मा महिलाओं के पास है। यानि, यहां अपनी संपत्ति की मालकिन होने के साथ ही महिलाएं पति की संपत्ति में उतनी ही हिस्सेदार हैं।

इन 15 राज्यों में बिहार में 58.8 प्रतिशत, मेघालय व त्रिपुरा 57.3 प्रतिशत, कर्नाटक 51.8 प्रतिशत और तेलंगाना में 50.5 प्रतिशत महिलाओं के पास अपनी संपत्ति है। एनएफएचएस के सर्वेक्षण में इस बार, महिलाओं की स्थिति का आकलन करने के लिए कुछ नए घटक भी जोड़े गए हैं। हेल्थ मिनिस्ट्री की साइट पर बताया गया है कि अपनी संपत्ति और गर्भवती महिलाओं के खिलाफ घरेलू हिंसा जैसी चीजों पर स्थिति का आकलन नए सिरे किया गया है।

सर्वे में ये पंन्द्रह राज्य हैं शामिल
राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण-4 के तहत 2015-16 के लिए आंध्र प्रदेश, बिहार, गोआ, हरियाणा, कर्नाटक, मध्य प्रदेश, मेघालय, सिक्किम, तमिलनाडु, तेलंगाना, उत्तराखंड, त्रिपुरा, वेस्ट बंगाल और दो यूनियन टेरिटोरिज़ में सर्वे हुआ। सर्वे के अनुसार, शिशु मृत्यु दर सीमा में प्रति 1000 जीवित जन्मों पर जहां अंडमान निकाबोर द्वीप समूह में 10 कम हुई है वहीं मध्यप्रदेश में प्रति हजार पर 51 शिशु मृत्यु दर बढ़ी है। यही रिपोर्ट उक्त 15 प्रांतों पर भी आधारित है।