Whats new

लक्ष्मण सर्वश्रेष्ठ, सचिन को नहीं मिली जगह दिग्गजों ने चुने 50 साल के 50 सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन

laxman

भारतीय क्रिकेट के संकटमोचक कहे जाने वाले और ‘वेरी वेरी स्पेशल’ के नाम से मशहूर कलात्मक बल्लेबाज वीवीएस लक्ष्मण की आस्ट्रेलिया के खिलाफ कोलकाता के ईडन गार्डन्स में 2001 में खेली गई 281 रन की पारी को पिछले 50 वर्षों में टेस्ट क्रिकेट का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन आंका गया है।.. क्रिकेट के बादशाह सचिन तेंदुलकर की एक भी पारी को इन 50 वर्षों के 50 सर्वश्रेष्ठ टेस्ट प्रदर्शन में जगह नहीं मिली है।..

हैदराबाद के इस कलात्मक बल्लेबाज ने भारत के पहली पारी में 274 रन से पिछड़ने के बाद यह ऐतिहासिक पारी खेली थी जिसकी बदौलत भारत ने यह मैच जीता था। खिलाड़ियों, कमेंटेटरों और पत्रकारों के 25 सदस्यीय पैनल ने एक मतदान में इस पारी को पिछले 50 वर्षों का सर्वश्रेष्ठ टेस्ट प्रदर्शन करार दिया है। पैनल में ग्रेग चैपल, जॉन राइट, टोनी कोजियर, मार्क निकोलस, संजय मांजरेकर और रमीज राजा जैसे दिग्गज शामिल थे। लक्ष्मण के अलावा राहुल द्रविड़, नरेंद्र हिरवानी, वीरेंद्र सहवाग, भागवत चंद्रशेखर, सुनील गावस्कर, मोहिन्दर अमरनाथ, हरभजन सिंह और कपिल देव के प्रदर्शनों को 50 सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शनों में जगह दी गई है। लेग स्पिनर अनिल कुंबले के 1999 में पाकिस्तान के खिलाफ दिल्ली में पहली पारी में 75 रन पर चार विकेट और दूसरी पारी में 74 रन पर सभी 10 विकेट के प्रदर्शन को 11वां स्थान दिया गया है। राहुल द्रविड़ के 2003 में आस्ट्रेलिया के खिलाफ एडिलेड में 233 और नाबाद 72 तथा तीन कैच के प्रदर्शन को 19वां स्थान मिला है। इस क्रम में 20वें नंबर पर लेग स्पिनर नरेंद्र हिरवानी के 1988 में चेन्नई में पहली पारी में 61 रन पर आठ विकेट और दूसरी पारी में 75 रन पर आठ विकेट के प्रदर्शन को जगह मिली है। वीरेंद्र सहवाग के 2004 में मुल्तान में पाकिस्तान के खिलाफ बनाए 309 रन को 28वां स्थान मिला है। दिग्गज लेग स्पिनर भागवत चंद्रशेखर के 1971 में इंग्लैंड के खिलाफ ओवल में दो विकेट पर 76 और 38 रन पर छह विकेट के मैच विजयी प्रदर्शन को 32वां स्थान दिया गया है। सुनील गावस्कर की 1979 में इंग्लैंड के खिलाफ ओवल में 221 रन की पारी को 38वां और पाकिस्तान के खिलाफ 1987 में बेंगलुरु में 96 रन की पारी को 40 वां स्थान मिला है।