Whats new

रेल मंत्रालय की वैकल्पिक रेलगाड़ी समायोजन योजना (एटीएएस) ‘विकल्प’ प्रारंभ

train-tour-golden-triangle

रेल मंत्रालय ने वैकल्पिक रेलगाड़ी समायोजन योजना (एटीएएस) के तहत ‘विकल्प ’ सेवा प्रारंभ की. यह सुविधा शुरू में केवल ई-टिकट (इंटरनेट बुकिंग) के लिए उपलब्ध होगा. इसके साथ ही यह योजना शुरू में दो क्षेत्रों यानी दिल्ली-लखनऊ और दिल्ली-जम्मू की मेल/एक्सप्रेस ट्रेनों के लिए उपलब्ध कराई गई है.
मुख्य विशेषताएं:
शुरू में केवल ई-टिकट (इंटरनेट बुकिंग) के जरिये दो क्षेत्रों यानी दिल्ली-लखनऊ और दिल्ली-जम्मू की मेल/एक्सप्रेस ट्रेनों के लिए उपलब्ध होगी. बाद में, प्रतिक्रियाओं के आधार पर इसे पीआरएस काउंटर बुकिंग के साथ ही अन्य यात्रा क्षेत्रों के लिए बढ़ाया जाएगा.
अभी यह योजना केवल एक ही श्रेणी की मेल/एक्सप्रेस रेलगाडि़यों के लिए लागू की जा रही है. यात्री से कोई अतिरिक्त शुल्क नहीं लिया जाएगा या किराये के अंतर के लिए रिफंड किया जाएगा. यह योजना बावजूद बुकिंग कोटा और रियायत के सभी प्रतीक्षा सूची के यात्रियों के लिए लागू है. इस योजना के तहत, प्रतीक्षारत यात्रियों को एटीएएस योजना के लिए चुनने का विकल्प. दिया जाएगा.
एटीएएस चुनने वाले यात्रियों, जो चार्ट बनने के बाद पूरी तरह से प्रतीक्षारत हैं, के लिए ही केवल वैकल्पिक ट्रेन में आवंटन के लिए विचार किया जाएगा. एटीएएस चुनने वाले यात्रियों, जिन्हेंज वैकल्पिक रेलगाड़ी में जगह दी जाएगी, को उनकी असली रेलगाड़ी के प्रतीक्षारत चार्ट में नहीं दिखाया जाएगा. वैकल्पिक ट्रेन में स्थानांतरित होने वाले यात्रियों की एक अलग से सूची कंफर्मड और प्रतीक्षारत सूची चार्ट के साथ चिपकाई जाएगी.
वैकल्पिक जगह पाया हुआ यात्री अपनी मूल टिकट पर वैकल्पिक रेलगाड़ी में यात्रा कर सकता है. मूल रेलगाड़ी के प्रतीक्षारत यात्रियों को यदि वैकल्पिक जगह दे दी जाती है तो वह मूल रेलगाड़ी में यात्रा नहीं कर पाएगा. यदि यात्रा करते पाए गए तो उसे बिना टिकट के यात्रा करना माना जाएगा और और शुल्कप लिया जाएगा. एक बार वैकल्पिक रेलगाड़ी में वैकल्पिक जगह पाए हुए यात्री वैकल्पिक रेलगाड़ी के सामान्यब यात्री माने जाएंगे.