Whats new

समीर पांडा के नेतृत्व वाली भारतीय टीम ने विस्फोट रोकथाम एवं पंचर उपचारात्मक प्रौद्योगिकी के लिए नासा का पुरस्कार

nasa

ओडिशा के समीर पांडा के नेतृत्व में भारतीय वैज्ञानिक के एक दल ने विस्फोट रोकथाम एवं पंचर उपचारात्मक (BPPC) तकनीक नामक एक नवीन प्रौद्योगिकी के लिए नासा का पुरस्कार जीता. उदित बोंडिया के.एन. पांडा और स्मृतिपर्णा सत्पथी टीम के अन्य सदस्य हैं. भारतीय टीम ने यह पुरस्कार नासा और ऑटोमोबाइल इंजीनियर्स, इंटरनेशनल सोसायटी द्वारा आयोजित एक प्रतियोगिता क्रिएट द फ्यूचर डिजाइन कांटेस्ट 2015 में जीताI
उन्हें यह पुरस्कार बीपीपीसी प्रौद्योगिकी पर आधारित और ऑटोमोटिव डिवीजन प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में विघटनकारी और सफलता नवाचार पर काम कर रहे एक फर्म ताईचीजूनो द्वारा विकसित हल्के फ्लैट टायर के निर्माण के लिए प्रदान किया गयाI यह टायर और साइड वाल में पंचर की देखभाल करने के लिए कक्ष के अंदर सीलेंट के साथ एक बहु संभाग ट्यूबलेस टायर हैI
प्रौद्योगिकी का महत्व-
इस प्रौद्योगिकी से टायर में विस्फोट की संभावनाओं कम हो जाती है तथा यह पंक्चर और गतिशील पहिया के संतुलन का ख्याल रखता हैI इससे ईंधन दक्षता और जीवन के विकास में मदद मिलती है तथा इसे मौजूदा प्रौद्योगिकी के सहयोग से निर्मित किया जा सकता है I इस प्रौद्योगिकी का उपयोग कर प्रतिवर्ष 10 लाख वाहनों के जरिये 200000 टन कार्बनडाईऑक्साइड के उत्सर्जन को कम किया जा सकता हैI इससे 100 मिलियन गैलन पेट्रोल की खपत में भी कमी की जा सकती हैI पहिया संतुलन में इस्तेमाल होने वाले सीसे जो कैंसर के प्रमुख कारण हैं, में भी इस तकनीक का इस्तेमाल कर बहुत हद तक कमी की जा सकती हैI वर्ष 2014 में टायर फटने से भारत में 3371 लोगों की मृत्यु हो गयी तथा 9081 लोग घायल हुए I इसी भांति अमेरिका में प्रतिवर्ष 33000 लोग टायर फटने से घायल होते हैंI वैश्विक स्तर पर अनुमानतः लगभग 1.25 मिलियन लोग घायल और हताहत मात्र टायर फटने के कारण होते हैंI