Whats new

भारत और बांग्लागदेश के मध्य तटीय नौपरिवहन पर समझौते को लागू करने हेतु एसओपी पर हस्ताक्षर

Coastal Shipping

भारत और बांग्लादेश ने तटीय नौपरिवहन पर समझौते को लागू करने के लिए नवम्बर 2015 को नई दिल्ली में मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) पर हस्ताक्षर किये. गौरतलब है कि दोनों देशों के बीच इस संदर्भ में जून 2015 में हस्ताक्षर किए गये थे. एसओपी पर भारत के जहाजरानी मंत्रालय के संयुक्त महानिदेशक (नौपरिवहन) और बांग्लादेश के नौपरिवहन विभाग के मुख्य अभियंता तथा पोत सर्वेक्षणकर्ता ने हस्ताक्षर किए। एसओपी को तटीय नौपरिवहन पर समझौते के नियम और शर्तो के अनुरूप तैयार किया गया है तथा भारत और बांग्लादेश दोनों ही इसके प्रावधानों पर सहमत हैं।

मानक संचालन प्रक्रिया से भारत और बांग्लादेश के बीच तटीय नौपरिवहन को बढ़ावा देने का मार्ग प्रशस्त होगा तथा एक्जिम माल की ढुलाई की लागत कम होने से दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय व्यापार में वृद्धि होगी। एसओपी के प्रावधानों के अंतर्गत भारत और बांग्लादेश अंतरराष्ट्रीय समुद्री परिवहन में उपयोग में लाए जाने वाले अपने राष्ट्रीय पोतों के साथ-साथ अन्य देशों के जहाजों के लिए भी समान दृष्टिनकोण अपना सकेगें।दोनों पक्षों ने भारत-बांग्लादेश तटीय नौपरिवहन के लिए नदी सागर पोत (आरएसवी) श्रेणी के जहाजों के उपयोग पर भी सहमति व्यक्त की है।

भारत और बांग्लादेश के बीच तटीय नौपरिवहन के मुददे पर कई संयुक्त तकनीकी समितियों की बैठकें हो चुकी हैं। पिछले समझौते में ढाका में, 24 जून 2014 को तटीय नौपरिवहन पर एक व्यापक चर्चा की गई।इसके बाद, बांग्लादेश और भारत के बीच तटीय नौवहन पर एक समझौते को अंतिम रूप दे दिया गया तथा भारत के प्रधानमंत्री की बांग्लादेश यात्रा के दौरान 6 जून 2015 को हस्ताक्षर किए गए। यह समझौता दोनों देशों के बीच तटीय नौपरिवहन के क्षेत्र में सहयोग राष्ट्रीय संप्रभुता, राष्ट्रीय कानूनों और अंतरराष्ट्रीय सम्मेलनों के अनुसार आपसी लाभ के सिद्धांतों पर आधारित होगा।