Whats new

यूएनएचसीआर को इंदिरा गांधी शांति, निरस्त्रीकरण एवं विकास पुरस्कार-2015 के लिए चयनित किया गया

UNHCR

संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी उच्चायुक्त कार्यालय (यूएनएचसीआर) को 20 नवम्बर 2015 को वर्ष 2015 के इंदिरा गांधी शांति, निरस्त्रीकरण और विकास पुरस्कार के लिए चयनित किया गया. इस संबंध में उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी की अध्यक्षता में गठित पुरस्कार की अन्तरराष्ट्रीय जूरी ने इंदिरा गांधी की जन्मतिथि पर यह निर्णय लियाI यूएनएचसीआर को लाखों शरणार्थियों को पुनर्वास एवं शरण प्रदान करने हेतु इस पुरस्कार के लिए चुना गयाI

यूएनएचसीआर का योगदान-
• इसकी स्थापना 14 दिसम्बर 1950 को संयुक्तराष्ट्र आमसभा द्वारा अन्तरराष्ट्रीय शरणार्थियों की समस्या सुलझाने हेतु की गयी थीI
• इसका मुख्यालय स्विट्ज़रलैंड स्थित जिनेवा में है जिसमें 123 देश इसके सदस्य हैंI
• इसकी स्थापना से अब तक यह लाखों शरणार्थियों, आंतरिक रूप से विस्थापित व्यक्तियों (आईडीपी) और राज्यविहीन लोगों की सहायता कर चुका हैI
• वर्तमान में यह तुर्की, लेबनान, जॉर्डन एवं भूमध्यसागरीय क्षेत्र में यूरोपियन शरणार्थी समस्या को सुलझाने में कार्यरत हैI
• भारत में यह सरकार की सहायता से पिछले कई दशकों से शरणार्थियों की तलाश करने एवं उन्हें पुनर्वास प्रदान करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा हैI
• शरणार्थियों के लिए एक राष्ट्रीय कानूनी ढांचे के अभाव में यूएनएचसीआर अपने जनादेश के तहत शरण चाहने वालों के लिए भी पर्याप्त व्यवस्था करता हैI
• इसके द्वारा जारी दस्तावेजों के आधार पर शरणार्थी भारत में दीर्घावधि वीज़ा, वर्क परमिट, शैक्षिक सुविधाओं आदि के लिए आवेदन कर सकते हैंI
• इसके वर्ष 1954 एवं 1981 में नोबल शांति पुरस्कार दिया जा चुका हैI
• इस समय अंटोनियो गुत्रेस इसके उच्चायुक्त हैंI

शांति, निरस्त्रीकरण और विकास के लिए इंदिरा गांधी पुरस्कार-
• यह वर्ष 1986 से इंदिरा गांधी ट्रस्ट द्वारा प्रतिवर्ष दिया जाने वाला वार्षिक पुरस्कार हैI
• यह किसी संगठन, व्यक्ति को अन्तरराष्ट्रीय शांति, विकास कार्यों एवं नवीन अन्तरराष्ट्रीय आर्थिक व्यवस्था में महत्वपूर्ण योगदान देने पर प्रदान किया जाता हैI
• इसके द्वारा यह भी सुनिश्चित किया जाता है कि वैज्ञानिक अविष्कारों द्वारा मानवता को कोई नुकसान न होI
• यह भारत के राष्ट्रपति द्वारा प्रदान किया जाता है, इसमें एक प्रशस्ति पत्र एवं 25 लाख रुपये कैश प्रदान किये जाते हैंI
• इसे मिखाइल गोर्बाचोव (1987), यूनिसेफ (1989), राजीव गांधी (1991), एम एस स्वामीनाथन (1999), एला भट्ट (2011) एवं एंजेला मर्केल (2013) को प्रदान किया जा चुका हैI
• वर्ष 2014 में भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) को यह पुरस्कार प्रदान किया गयाI