Whats new

23वां एपेक आर्थिक नेताओं का शिखर सम्मेलन मनीला में आयोजित किया गया

PM Modi at ASEAN Business Summit

23वें एशिया-प्रशांत आर्थिक सहयोग (एपेक) के आर्थिक नेताओं का शिखर सम्मेलन 2015 को फिलीपींस के मनीला में आयोजित किया गया|. शिखर सम्मेलन का आयोजन फिलीपींस के राष्ट्रपति बेनिग्नो एक्विनो एस III की अध्यक्षता में हुआI शिखर सम्मेलन का विषय ‘समावेशी अर्थव्यवस्था का निर्माण, बेहतर दुनिया का निर्माण’ थाI शिखर सम्मेलन के समापन के बाद 21 सदस्य देशों के नेताओं ने ‘समावेशी अर्थव्यवस्था का निर्माण, बेहतर दुनिया का निर्माण’: ए विजन फॉर एशिया-पैसिफिक कम्यूनिटी नाम से घोषणा पत्र जारी कियाI पेरू वर्ष 2016 में एशिया-प्रशांत आर्थिक सहयोग (एपेक) की अध्यक्षता के साथ-साथ 24वें अपेक आर्थिक नेताओं की बैठक की मेजबानी भी करेगाI

एशिया-प्रशांत आर्थिक सहयोग (एपेक) के बारे में- एशिया-प्रशांत आर्थिक सहयोग (एपेक) नवंबर 1989 में स्थापित एक बहुपक्षीय अंतरराष्ट्रीय संगठन है, जो एशिया-प्रशांत क्षेत्र में अपने सदस्य अर्थव्यवस्थाओं के बीच मुक्त व्यापार और आर्थिक समृद्धि को बढ़ावा प्रदान करता हैI दस महीने बाद, 12 एशिया प्रशांत अर्थव्यवस्थाओं ने अपेक की स्थापना के लिए कैनबरा, ऑस्ट्रेलिया में मुलाकात कीI

संस्थापक सदस्य: ऑस्ट्रेलिया, ब्रुनेई दारुस्सलाम, कनाडा, इंडोनेशिया, जापान, कोरिया, मलेशिया, न्यूजीलैंड, फिलीपींस, सिंगापुर, थाईलैंड और संयुक्त राज्य अमेरिकाI एशिया-प्रशांत आर्थिक सहयोग (एपेक) में कुल 21 सदस्य शामिल हैंI चीन, हांगकांग और चीनी ताइपे वर्ष 1991 में शामिल हुएI मैक्सिको और पापुआ न्यू गिनी को वर्ष 1993 में शामिल किया गयाI वर्ष 1994 में चिली को शामिल किया गया और 1998 में, पेरू, रूस और वियतनाम को शामिल किया गया I वर्ष 1993 में, संयुक्त राज्य अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बिल क्लिंटन ने एशिया-प्रशांत क्षेत्र में सामरिक दृष्टि के तहत सहयोग के लिए एक वार्षिक अपेक आर्थिक नेताओं के शिखर सम्मेलन की स्थापना कीI

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आसियान सम्मेलन में बोलते हुए अपनी सरकार की जमकर सराहना की और भारत में हो रहे आर्थिक सुधारों का जिक्र कियाI

आसियान में पीएम मोदी के भाषण की 25 बड़ी बातें..
1- आसियान दुनिया के बड़े आर्थिक समूहों में से एक
2- 21वीं सदी एशिया की होगी
3- आसियान देश मिलकर बड़ा पावरहाउस बना सकते हैं.
4- आसियान देशों की पर्यटन में अहम भूमिका
5- आसियान के हर देश ने अच्छा काम किया
6- भारतीय अर्थव्यवस्था के सामने कई चुनौतियां
7- महंगाई और राजकोषीय घाटा भारत के लिए चिंता
8- आर्थिक विकास के लिए सुधार जरूरी
9- पिछले 18 महीने में भारतीय अर्थव्यवस्था सुधरी
10- राजकोषीय घाटा कम कर भारत ने निवेश बढ़ाया
11- आईएमएफ और विश्व बैंक ने भारत में भरोसा जताया
12- किसानों के लिए स्वायल हेल्थ कार्ड जारी किया.
13- भारत में आज 23 किमी प्रति दिन सड़क बन रही है
14- जनधन योजना में भारत ने 19 करोड़ खाते खोले
15- हमने दो करोड़ घर बनाने का लक्ष्य रखा है
16- कार्बन उत्सर्जन को लेकर भारत चिंतित
17- चोरी रोकने के लिए नीम यूरिया कोटिंग
18- रिफॉर्म से हमने ट्रांसफॉर्म किया है
19- एफडीआई पर राज्यों के साथ काम कर रहा है विदेश मंत्रालय
20- विदेशी निवेश में 40 फीसदी की बढ़ोत्तरी हुई
21- पीपीपी मॉडल के समर्थन में भारत सरकार
22- मूडी एजेंसी ने भारत की रेटिंग बढ़ाई है
23- हमने स्टार्ट-अप इंडिया मुहिम शुरू की
24- भारत को मैन्यूफैक्चुरिंग हब बनाएंगे
25- बीमा, रक्षा, रेल में निवेश बढ़ाया जा रहा है

Next >>