Whats new

स्वामी विवेकानंद की मूर्ति का मलेशिया में अनावरण - प्रधानमंत्री मोदी

swami vivekanand

मलेशिया की राजधानी कुआलालंपुर में को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रामकृष्ण मिशन की ओर से लगाई गई स्वामी विवेकानंद के स्ट्रेच्यू का अनावरण किया।. इससे पहले उन्होंने 10 वें ईस्ट एशिया समिट में शिरकत की। इस दौरान उन्होंने आतंकवाद का मुद्दा उठाया। उन्होंने कहा कि दुनिया आतंक के साए में है।. आतंकवाद को किसी धर्म से नहीं जोड़ा जाना चाहिए, लेकिन किसी भी देश को अब आतंकवाद को सपोर्ट नहीं करना चाहिए। इस दौरान ईस्ट एशिया के 10 देशों के बीच आसियान इकोनॉमिक कम्युनिटी (एईसी) का गठन हुआ।
स्वामी विवेकानंद की मूर्ति का अनावरण
• समिट में हिस्सा लेने के बाद मोदी ने यहां के रामकृष्ण आश्रम गए। यहां स्वामी विवेकानंद की मूर्ति का अनावरण किया।
• इस मौके पर उन्होंने कहा, ''वेद से लेकर स्वामी विवेकानंद तक भारत की एक लंबी कल्चरल परंपरा है। स्वामी विवेकानंद किसी शख्सियत का नाम भर नहीं, वह भारत की आत्मा हैं। स्वामी विवेकानंद कहा करते थे कि मानवता की सेवा ही ईश्वर की सेवा है। स्वामीजी महज एक नाम भर नहीं हैं। वे भारत की हजारों साल की परंपरा और कल्चर को भी रीप्रजेंट करते हैं।''
• यह विवेकानंद ही थे जिन्होंने सबसे पहले 'एक एशिया' का कॉन्सेप्ट दिया था। हम ASEAN में आज उसी एशिया की बात कर रहे हैं।
• अंग्रेजों के राज में कोई देश की आजादी को देख नहीं पा रहा था। तब उन्होंने (स्वामी जी) कहा था, "मैं साफतौर पर भारत माता को मुक्त और आजाद देख रहा हूं।"
• कोलकाता की धरती पर नौजवानों ने उनसे (स्वामी विवेकानंद) पूछा कि, "ईश्वर को पाने का रास्ता क्या है। उन्होंने कहा जाओ फ़ुटबाल खेलो। पूरी तरह खुद को झोंक दो। हो सकता है तुम्हें रास्ता मिल जाएगा।
• यदि हम यह पहचान करने में कामयाब हो सके कि हम कौन हैं? तभी हम स्वामी विवेकानंद के मूल्यों में को खुद को उतारने लायक होंगे।

Next >>