Whats new

प्लूटो पर मिले बर्फ के संकेत, आसमान भी नीला

pluto

पृथ्वी के पड़ोसी ग्रह मंगल पर पानी मिलने के बाद अब सुदूर स्थित प्लूटो पर भी बर्फ होने के संकेत मिले हैं और साथ ही उसका आसमान पृथ्वी की तरह नीला है. अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के वैज्ञानिकों ने न्यू हॉरिजंस से मिली पहली रंगीन तस्वीरों के अध्ययन के आधार पर यह दावा किया है। वैज्ञानिकों का कहना है कि प्लूटो की धुंध के कण भूरे और लाल रंग के हो सकते हैं लेकिन वे नीला प्रकाश बिखेर रहे हैं। साथ ही प्लूटो पर बर्फ के कई छोटे-छोटे क्षेत्रों का पता चला है। कोलोराडो के बॉल्डर स्थित दक्षिण पश्चिम शोध संस्थान (एसडब्ल्यूआरआई) में न्यू हॉरिजंस के प्रमुख शोधकर्ता एलन स्टर्न का कहना है कि कौन सुदूर अंतरिक्ष में नीले आकाश की उम्मीद किसने की होगी। यह बहुत सुंदर है। इसी संस्थान के कार्ली हॉवेट ने कहा कि छोटे-छोटे कणों द्वारा सूर्य की रोशनी के बिखराव के परिणामस्वरूप आकाश नीला दिखता है। पृथ्वी पर यह काम नाइट्रोजन के छोटे कण करते हैं। प्लूटो पर वे बहुत बड़े लग रहे हैं लेकिन फिर भी वे छोटे हैं। ऐसे कणों को हम र्थोंलस कहते हैं। वैज्ञानिकों का मानना है कि थोलिन कण उच्च तापमान में बनते हैं जहां पराबैंगनी किरणें टूटती हैं और आयनीकृत नाइट्रोजन तथा मीथेन कण एकदूसरे से क्रिया कर जटिल आवेशपूर्ण आयन बनाते हैं। ये फिर आपस में जुड़कर बेहद जटिल कण बनाते हैं। यह प्रक्रिया पहली बार शनि के उपग्रह टाइटन के ऊपरी वातावरण में देखी गयी थी। ये जटिल कण जब तक मिलते रहते हैं जब तक वे छोटे अणु नहीं बन जाते हैं। इन अणुओं पर फिर गैसों की परत जम जाती है और वे वायुमंडल से सतह पर आ जाते हैं। इन्हीं अणुओं की मौजूदगी के कारण प्लूटो की सतह का रंग लाल है। साथ ही प्लूटो पर बर्फ के कई छोटे-छोटे क्षेत्रों का पता चला है। न्यू हॉरिजंस पर लगे राल्फ स्पेक्ट्रल कंपोजीशन मैपर से मिले आंकड़ों के आधार पर वैज्ञानिकों ने यह दावा किया है। मैरीलैंड विश्वविद्यालय की सिल्विया प्रोटोपापा का कहना है, ''मुझे इस बात का आश्चर्य है कि यह बर्फ लाल है। हम अभी तक बर्फ और प्लूटो की सतह पर मौजूद थोलिन में संबंध समझ नहीं पाए हैं।'' न्यू हॉरिजंस यान अभी पृथ्वी से 3.1 अरब मील दूर है और उसकी सभी प्रणालियां सही ढंग से काम कर रही हैं।