Whats new

जमैका के लेखक मार्लोन जेम्स को मिला मैन बुकर पुरस्कार

marlon-james

जमैका के लेखक मार्लोन जेम्स को उनकी किताब 'ए ब्रीफ हिस्ट्री ऑफ सेवन किलिंग्स' के लिए वर्ष 2015 का प्रतिष्ठित मैन बुकर पुरस्कार प्रदान किया गया है. उन्होंने जमैका के साहित्यिक इतिहास में पहली बार यह पुरस्कार जीत कर इतिहास रच दिया है. जेम्स को लंदन के गिल्डहाल में आयोजित एक समारोह में पुरस्कार प्रदान किया गया. उन्होंने ब्रिटिश- भारतीय लेखक संजीव सहोता की 'द ईयर ऑफ रनवे' और चार अन्य अंतरराष्ट्रीय दावेदारों को पीछे छोड़ते हुए यह पुरस्कार जीता है. मिनियोपोलिस निवासी 44-वर्षीय जेम्स ने कहा, 'इस पर मुझे यकीन नहीं हो रहा है. मुझे ऐसा महसूस हो रहा है कि मानो कल जब मैं सुबह उठूंगा तो पता चलेगा कि यह तो एक सपना था.' जेम्स के तीसरे उपन्यास को यह पुरस्कार दिया गया, जो 1970 के दशक में बॉब मार्ले की हत्या के प्रयास की वास्तविक जीवन की घटना से प्रेरित है. पुरस्कार चयन समिति के अध्यक्ष माइकल वुड ने 686 पन्नों में सिमटी इस कहानी को 'सबसे अधिक रोमांचक' करार दिया और कहा कि काफी हिंसक होने के साथ ही यह हैरतंगेज घटनाओं से भरी हुई है. इंग्लैंड के ईस्ट मिडलैंड के डर्बीशायर में पंजाबी प्रवासी परिवार में पैदा हुए सहोता भी इस बार पुरस्कार के प्रमुख दावेदारों में शामिल थे.