Whats new
Shopping Cart: Rs 0.00

You have no items in your shopping cart.

Subtotal: Rs 0.00

Welcome to

Allauddin

सितंबर में भी थोक महंगाई दर नकारात्मक 4.54 फीसदी

rate

देश में वार्षिक थोक महंगाई दर सितंबर में भी नकारात्मक 4.54 प्रतिशत पर बनी रही. अगस्त में यह दर नकारात्मक 4.95 प्रतिशत रही थी. सरकारी आंकड़ों के अनुसार, आधिकारिक थोक मूल्य सूचकांक (डब्ल्यूपीआई) के आधार पर वार्षिक महंगाई दर सितंबर में 2.38 फीसदी रही है. केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय द्वारा जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक, डब्ल्यूपीआई के तीन प्रमुख उपसूचकांकों में प्राथमिक वस्तुओं और विनिर्मित उत्पादों की महंगाई दर में क्रमश: 0.4 फीसदी और 0.1 फीसदी तक की वृद्धि हुई है. लेकिन, ईंधन और बिजली की मंहगाई दर में 1.7 फीसदी की कमी आई है. सितंबर में खाद्य महंगाई दर 0.69 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई, जबकि अगस्त में इसमें 1.13 फीसदी की गिरावट आई थी. पिछले वर्ष की समान अवधि में इसमें 3.68 प्रतिशत गिरावट आई थी. समीक्षाधीन महीने के दौरान आम खपत की कुछ जरूरी वस्तुओं की कीमतों ने घरेलू बजट पर खासा असर डाला है. इन वस्तुओं में प्याज और दालें शामिल हैं, जिनकी कीमतों में पिछले साल की समान अवधि के मुकाबले सितंबर महीने में क्रमश: 113.70 फीसदी और 38.56 फीसदी वृद्धि हुई है.
दूध, मांस, अंडे, मछली जैसी दूसरी प्रोटीन वाली खाद्य वस्तुओं की कीमतों में सितंबर में मामूली वृद्धि दर्ज की गई. सालाना आधार पर दूध 2.16 प्रतिशत महंगा हुआ, जबकि अंडा, मांस और मछली की कीमतों में 2.02 फीसदी तक वृद्धि दर्ज की गई. जबकि, इसी अवधि में आलू और सब्जियों की कीमतें क्रमश: 57.34 फीसदी और 9.45 फीसदी नीचे आईं. चावल और अनाज की कीमतों में भी क्रमश: 3.64 प्रतिशत और 1.02 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई.
थोक महंगाई का आंकड़ा सितंबर के लिए खुदरा महंगाई आंकड़े के जारी होने के बाद आया है. उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) पर आधारित खुदरा महंगाई दर सितंबर में अगस्त के 3.74 प्रतिशत की तुलना में बढ़कर 4.41 फीसदी दर्ज की गई थी.