Whats new
Shopping Cart: Rs 0.00

You have no items in your shopping cart.

Subtotal: Rs 0.00

Welcome to www.allauddin.co.in

Allauddin

गुब्बारे की मदद से दी जाएगी इंटरनेट सेवा

internet

गूगल के इंटरनेट-बीमिंग गुब्बारे उन क्षेत्रों में इंटरनेट सुविधा उपलब्ध कराने के लिए तैयार हैं जहां अब तक इंटरनेट नहीं पहुंच सका है. परियोजना के विस्तार को लेकर बुधवार को की गई घोषणा के तहत ये गुब्बारे पहली बार इंडोनेशिया के ऊपर उड़ेंगे. दक्षिण पूर्व एशिया के उस हिस्से में 17,000 द्वीपों पर करीब 25 करोड़ लोग रहते हैं, लेकिन केवल 4.2 करोड़ लोगों के पास इंटरनेट तक पहुंच की सुविधा मौजूद है. गूगल के दो वर्षीय कार्यक्रम प्रोजेक्ट लून का लक्ष्य पृथ्वी से करीब 60,000 फुट ऊपर उड़ रहे गुब्बारों के संकुलों से हाई-स्पीड इंटरनेट सिग्नल प्रदान करना है. गूगल का यह लून प्रोजेक्ट जिस क्षेत्र में इंटरनेट सेवा नहीं है वहां पर हाईस्पीड इंटरनेट का सिग्नल देगा. लून प्रोजेक्ट एल्फाबेट के साथ काम करने वाली कंपनी गूगल एक्स ने बनाया है.

4 जी जैसी तेजी
गुब्बारों के जरिए दूरस्थ प्रदेशों में इंटरनेट पहुंचाने की इस योजना को लेकर तरह-तरह के सवाल भी उठाए जाते रहे हैं. हालांकि गूगल ने 2013 में जब पहली बार इस योजना का खुलासा किया था तभी यह स्पष्ट किया था कि प्रोजेक्ट लून के जरिए मिलने वाली इंटनेट सुविधा में 4जी जैसी स्पीड होगी.

नई तकनीक से लैस होंगे गुब्बारे
जिन सुपरप्रेशर गुब्बारों की मदद से यह योजना संभव होगी वह गैस और प्रकाश की उच्च क्षमता को सहने में सक्षम होंगे. इससे तापमान में उतार-चढ़ाव के वक्त भी इन गुब्बारों का भार एक जैसा होगा. 1950 में अमेरिकी वायुसेना ने गुब्बारों को अलग-अलग तापमान में एक जैसी स्थिति में रखने का परीक्षण किया था. गूगल के अनुसार प्रोजेक्ट लून के जरिए एक ओर जहां दूरस्थ प्रदेशों में इंटरनेट सेवा पहुंचाई जा सकेगी. वहीं फाइबर ऑप्टिकल केबल के मुकाबले बीमिंग गुब्बारे से इंटरनेट सेवा की लागत भी कम होगी.

श्रीलंका ने पहले ही किया समझौता
इंडोनेशिया की तरह श्रीलंका में भी गुब्बारों के जरिए दूरस्थ इलाकों में इंटरनेट सेवा पहुंचाने की योजना है. श्रीलंकाई सरकार ने गूगल से इस संबंध में समझौता भी किया है. यहां हीलियम गुब्बारों के जरिए इंटरनेट की पहुंच से दूर क्षेत्रों में यह सुविधा पहुंचाई जाएगी.

गांव-गांव पहुंचेगा इंटरनेट
- 20 करोड़ लोग इंडोनेशिया में इंटरनेट की पहुंच से दूर
- 2013 में पहली बार सामने आई थी गुब्बारे से इंटरनेट योजना
- 60,000 फुट ऊपर उड़ रहे गुब्बारे देंगे बेहतरीन इंटरनेट स्पीड