Whats new
Shopping Cart: Rs 0.00

You have no items in your shopping cart.

Subtotal: Rs 0.00

Welcome to

Allauddin

पश्चिमी घाट में खोजी गईं पौधों की नई प्रजातियाँ-वेल्लीथुम्पा और इरियोकोलन

mait  

सीएन सुनील के नेतृत्व में शोधकर्ताओं के एक दल ने भारत के पश्चिमी घाट पर वेल्लीथुम्पा(चांदी का फूल) और इरियोकोलन नामक पौधों की दो नई प्रजातियों की खोज की. पौधों की इन प्रजातियों की खोज केरल के पूयमकुट्टी-अदमालायर और नेरीअमंगलम वन क्षेत्र से की गई है.
इन पौधों की खोज विश्वविद्यालय अनुदान आयोग द्वारा प्रायोजित की गई परियोजना के तहत की गई.
खोज की पुष्टि पत्रिका ‘इंटरनेशनल जर्नल वेबिया: जर्नल ऑफ़ प्लांट टेक्सोनेमी एण्ड फाइटोजियोग्राफी’ के जून 2015 के अंक में की गई.
वेल्लीथुम्पा के बारे में –
इस पौधे की खोज एर्नाकुलम जिले की सबसे ऊंची चोटी शूलामुडी की चट्टानों पर की गई. यह चोटी एड्मालायर वन क्षेत्र में स्थित है.
यह मिन्ट समूह से सम्बंधित एक झाड़ीदार पौधा है.
इस पौधे पर सफेद चमकीले रेशें हैं जिसके कारण इसे स्थानीय भाषा में वेल्लीथुम्पा नाम दिया गया है.
इस पौधे में सफेद फूल निकलते हैं और इसमें एक बेलनाकार संरचना के अन्दर लाल परागकोष होता है.
इरियोकोलन मनोहारानी के बारे में –
इस पौधे की खोज ममअलाकनन्दम मुनिपरा क्षेत्र के पर्वतों में हुई है. यह क्षेत्र नेरीअमंगलम वन क्षेत्र में पड़ता है.
यह पाइपवोर्ट्स समूह से संबंधित एक घास है और जिसमें सफेद फूल निकलते हैं.
इस पौधे का नाम वन संरक्षक टीएम मनोहरन के नाम पार दिया गया है जिन्होंने जैव विविधता संरक्षण और वन्य जीवन संरक्षण में अपना योगदान दिया है.

 

Next >>